Organised By : Rashtriya Gramin Vikas Trust                  AN ISO 9001:2008 CERTIFIED ORGANISATION                  DEDICATED TO INDIA VISION 2020.                  The Dream Of Our Real President Of India Mahamahim Dr. A.P.J. Abdul Kalam                  AN ISO 9001:2008 CERTIFIED ORGANISATION

SCIENTIFIC EDUCATION POINT
A Concept For Mind Development & Mid Brain Activation
A Unit Of RGVT : AN ISO 9001:2008 Certified Organisation
Home
Determine
IQEQSQ
Que. Answer
Branches
Theory
Courses
Authorisation
About SEP
Contact Us
"सेप" आपको अपने बच्चों के कैरियर के लिए आपको निश्चिंत करता है
क्योंकि यह आपके बच्चे को "सुपर जीनियस " बनाता है और .
यह बच्चों के मस्तिष्क के नयूरोन्स को सक्रिय कर देता है

मध्य मस्तिष्क के लाभ :
             1. मेमोरी में सुधार
             2. एकाग्रता में सुधार
             3. रिकालिंग की क्षमताओं में सुधार
             4. एकेडमिक ताकत में सुधार
             5. परीक्षा में सुधार करना
             6. बेहतर विश्वास
             7. प्रतियोगिता में बेहतर
             8. गणित की संकल्पना में बेहतर
             9. निर्णय में बेहतर
           10. बेहतर व्यवहार
           11. बेहतर लक्ष्य निर्धारणा
           12. बेहतर जिम्मेदार होना
           13. सभी विषयों पर नियंत्रण
           14. सामाजिक कौशल में बेहतर और
           15. आंखों पर पट्टी लगाकर भी सभी काम करने में सक्षम हो जाता है

To see in English click here
Thoughts of Scientist & Sages
वैज्ञानिकों एवं ऋषियों के विचार


मानव मस्तिष्क असाधारण और अद्भुत है , इसकी क्षमता बढ़ जाने से बच्चे बहुमुखी प्रतिभाशाली बन जाते हैं , जिसे हम जीनियस कहते हैं | परन्तु , हम अपने बच्चे पर अधिक से अधिक खर्च करके भी जीनियस बनाने में असफल ही रहते हैं , परन्तु अब वह समय नहीं रहा , आपके शहर में अब "साइंटिफिक एजुकेशन पॉइंट" के "मिड ब्रेन एक्टिवेशन कोर्स " द्वारा बच्चों का दायाँ मस्तिष्क सक्रिय कर यह कार्य संभव कर पाना आसान हो गया है |

           डॉ पेनफिल्ड ने मस्तिष्क की खोज करके बताया कि हमारे मस्तिष्क में ऐसे तत्व विद्यमान हैं , जो बीस हजार से भी अधिक पृष्ठों का ज्ञान सुरक्षित रख सकते हैं |

           मस्तिष्क नियंत्रण प्रयोगों द्वारा डॉ . जोजे डेलगाडो ने भी यह सिद्ध कर दिया कि मानव मस्तिष्क में दस अरब ऐसे तत्व (नयूरोंस) हैं जिनमें से एक नयूरोंस ही बीस हजार पृष्ठों को याद रख सकते हैं | यदि ज्यादा - से - ज्यादा नयूरोंस को एक्टिव किया जाय तो मनुष्य विलक्षण प्रतिभावान बन सकते हैं |

           "मिड ब्रेन एक्टिवेशन कोर्स " का उत्तर देते हुए "बेट्टी एडवर्ड्स " अपनी पुस्तक "ड्राइंग ऑन द राईट साइड ऑफ़ ब्रेन " में लिखती है की ऐसे बच्चों व व्यक्तियों में मस्तिष्क का दाहिना गोलार्ध सक्रिय हो जाता है | दायाँ मस्तिष्क के सक्रिय होने से याददाश्त शक्ति , अंतर्दृष्टि एवं जिज्ञासु अन्वेषण बुद्धि का विकास अधिक हो जाता है |

           अलबर्ट आइन्स्टीन कहते थे की यह कौशल मनुष्य को जन्मजात प्राप्त है , यह दाहिने सेलिब्रल हेमिस्फियर में ही संपन्न होता है | वे इसी प्रक्रिया द्वारा स्वयं को इतना विलक्षण प्रतिभा संपन्न बना सके , यह वे खुलकर कहते थे |

           भारतीय तत्वदर्शी ऋषियों के द्वारा "छान्दोग्य उपनिषद" में सहस्त्रार दर्शन की सिद्धि पांच शब्दों में प्रतिपादित की गयी है - "तस्य सर्वेषु लोकेषु कामचारो भवति" अर्थात् सहस्त्रार प्राप्त कर लेने वाला योगी संपूर्ण भौतिक विज्ञान प्राप्त कर लेने में समर्थ हो जाता है, यही वह शक्ति केंद्र है जहाँ से मस्तिष्क शरीर का नियंत्रण करता है और विश्व में जो भी मानवकृत विलक्षण है उसका सम्पादन करता है |

           अतः तत्वदर्शन का आधार मस्तिष्क है , यदि इसे जान लिया जाय तो संपूर्ण विज्ञान , सुख - संतोष और आनंद को प्राप्त किया जा सकता है | इसे ही "मिड ब्रेन" कहा जाता है | इसी के एक्टिव होने से हम "जीनियस" कहलाते हैं | इसी विद्या को "प्राणज्ञान कला" कहते हैं |            -स्फोटाचार्य
"सेप" द्वारा संचालित "मिड ब्रेन एक्टिवेशन कोर्स आपके बच्चों के
आईक्यू और ईक्यू को बढ़ाता है

विशेष जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Back
                                                 RGVT    |    Home    |    Determine    |    Branches    |    Que. Answer    |    IQEQSQ    |    Theory

                                                                                    
Courses    |    Authorisation    |    About SEP    |    Contact Us
Service of a man is the service of God.
Your visitor No.
Your Visitor No.
All Right Reserved       Copyright © rgvt     Web developed by "raj Infotech"    Orgd. by RGVT, New Delhi